NEWS MEDIA

By Indian Blogger Dipak

देखिये भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में स्त्री स्वाभिमान द्वारा शारीरिक रूप से दिव्यांग और सामाजिक रूप से वंचित महिलाओं का सशक्तिकरण हो रहा है..!

 

ग्रामीण भारत में महिलाएं सामाजिक और आर्थिक अभाव के कारण दयनीय जीवन बिताती हैं, जो रोज़गार के अवसरों तक सीमित है, यह उन्हें और भी कमजोर बनाता है जब उन्हें दिव्यांगता के कारण शारीरिक सीमाओं के साथ चुनौती दी जाती है..!

आरती कुमारी और कौशल्या देवी महिलाएं ऐसे दो उदाहरण हैं, जो महिला होने के साथ-साथ दिव्यांगता के कारण भेदभाव का जीवन जीती हैं, शारीरिक अक्षमता के कारण पति द्वारा परित्यक्त, 26 वर्षीय आरती कुमारी अपने परिवार का समर्थन करने के लिए आजीविका अर्जित करने में असमर्थ थी, 29 साल की कौशल्या को पांच साल पहले अपने पति को खोने के बाद सामाजिक अभाव का सामना करना पड़ा, कौशल्या को कोई काम नहीं मिला क्योंकि वह केवल कक्षा 9 पास थी, जिसके कारण आय के स्रोत के अभाव में गंभीर कठिनाइयों का सामना करना पड़ा..!

जैसे ही स्थिति गंभीर हुई, किरण कुमारी, एक ग्राम स्तरीय उद्यमी, उनके लिए काले बादलों के बीच एक सुनहरी आभा के रूप में उभरीं, दोनों ने अपने जीवन में एक नाटकीय बदलाव देखा, जब वे वीएल किरण के संपर्क में आईं, जो झारखंड में जिला गिरिडीह के बिरनी ब्लॉक के अंतर्गत आने वाले सुदूरवर्ती गांव बृंदा में सीएससी चलाती हैं..!

किरण ने हाल ही में स्त्री स्वाभिमान परियोजना के तहत एक सैनिटरी नैपकिन इकाई की स्थापना की थी और दोनों महिलाओं को इकाई में काम करने के लिए नामांकित किया, सीएससी एसपीवी ने यूनिट के संचालन में आरती और कौशल्या को प्रशिक्षित किया और अब दोनों यूनिट में कार्यरत हैं, उन्हें न केवल आय का स्रोत मिला है, बल्कि समाज में सम्मान और प्रतिष्ठा भी अर्जित की है..!

यूनिट में काम शुरू करने से पहले, आरती कुमारी, जो एक स्कूल पास-आउट हैं, उन्हें पीएमजीदिशा कार्यक्रम के तहत किरण के सीएससी में डिजिटल साक्षरता प्रशिक्षण प्रदान किया गया, अब उनके साथ, किरण की यूनिट में आठ और महिलाओं को नियुक्त किया गया है, जिससे उन्हें और सशक्त बनाया जा रहा है..!

वर्तमान में यह इकाई प्रति दिन 300 नैपकिन का उत्पादन करती है, और इसके सदस्य स्कूली लड़कियों और आदिवासी महिलाओं को नि: शुल्क नमूने वितरित करने के अलावा, मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता में सुधार के लिए सैनिटरी नैपकिन का उपयोग करने के लिए लड़कियों और महिलाओं को जागरूक करने के लिए गांव भर में जागरूकता अभियान चला रहे हैं..!

किरण कुमारी झारखंड की एक चैंपियन वीएलई हैं जो बिरनी ब्लॉक के दूरदराज के गांवों में नागरिकों को डिजिटल सेवाएं प्रदान कर रही हैं, उसने आधार के तहत 150,000 लोगों को नामांकित किया है, 300 रोगियों को टेली-मेडिसिन सेवा प्रदान की है, 6,000 तक डिजिटल लॉकर, 800 बैंक खाते खोले हैं और 15,000 लोगों को डिजी धन अभियान के दौरान कैशलेस लेनदेन के लिए जागरूक किया है, डिजिटल रूप से समावेशी समाज के प्रति उनके अनुकरणीय योगदान के लिए, उन्हें 2015 में डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के शुभारंभ पर माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा भी सम्मानित किया गया था..!

 

➡️ यदि इस बारे मे कोई सहायता चाहिये तो हमसे संपर्क कीजिये..

ईमेल:- dipakcomputersystems@gmail.com

➡️ Follow on Social media

https://www.twitter.com/TheDipakCom
https://www.instagram.com/TheDipakCom
https://www.facebook.com/TheDipakCom

☑️ जल्द आ रहा ये ब्लॉक..!

https://dipakcomputersystems.com

 

                 ✔️ Hair Rebounding Offer..!

 
 

dipakwriter@gmail.com



दुनियां का सबसे सस्ता होस्टिंग प्रोवाइडर


https://onohosting.com/core/aff.php?aff=460 

 
SEMrush
SEMrush

आधार सिस्टम (UIDAI) ने एक ऐसा प्रोसेस इजात किया है, जिसके जरिये आप आसानी से यह पता लगा सकता हैं की हमारा Aadhar Card कौन-कौन यूज कर रहा है..!

आधार सिस्टम ने एक ऐसा प्रोसेस इजात किया है, जिसके जरिये आप आसानी से यह पता लगा सकते हैं कि हमारा आधार कार्ड का उपयोग कहां-कहां और कब हुआ है, वैसे सभी लोगों को अपने डॉक्यूमेंट की गोपनीयता का पूरा ध्यान रखना चाहिये, डॉक्यूमेंट की सिक्योरिटी न होने के कारण कई बार लोगों को भारी नुकसान उठाना पड़ता है, इसी को ध्यान में रखते हुए आधार अथॉरिटी ने यह प्रोसेस निकाला है..!

 

सबसे पहले आपको  https://resident.uidai.gov.in के वेबसाइट पर जाना होगा,  यहां जाने के बाद आपको Aadhar Authentication History  (हिस्ट्री) के पेज पर जाने के लिए लिंक पर क्लिक करना होगा, अब आपको अपना आधार नंबर और सिक्यॉरिटी कोड डाले. इसके बाद आपको ‘Generate OTP’ पर क्लिक करना होगा..!

 

इस लिंक पर क्लिक करने के बाद आपको अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर OTP गिरेगा, जैसे ही आप OTP नम्बर एंटर करेंगे वैसे ही आपको साइट पर कुछ और विकल्प भी दिखाई देगा, जिसमे आपको सलेक्ट करना होगा ऑथेंटिकेशन टाइप (Authentication Type), सूचना की अवधि (Select Date Range), ट्रांजैक्शंस की संख्या (Number of Records) ओर आखिर मे OTP डालकर Veryfy OTP पर क्लिक करना होगा..!

 

चुनी गई अवधि में ऑथेंटिकेशन अनुरोध की तारीख, समय और प्रकार पता चल जाएगा, वैसे.. पेज से यह पता नहीं चलेगा कि यह अनुरोध किसने किया है..!

 

➡️ यदि इस बारे मे कोई सहायता चाहिये तो हमसे संपर्क कीजिये..

ईमेल:- dipakcomputersystems@gmail.com

➡️ Follow on Social media

https://www.twitter.com/TheDipakCom
https://www.instagram.com/TheDipakCom
https://www.facebook.com/TheDipakCom

➡️ Visit the website for the special offer



https://dipaakkumarsingh.blogspot.com
https://dipakcomputersystems.com
https://itdipak.blogspot.com

 
 
 
 
 
 
 

DIPAK COMPUTER SYSTEMS is a globally recognized software development and designing company in India. We are offering cost effective software development, web development, app development, erp development, web designing, seo services, smo services, ppc services, digital marketing, logo designing & internet marketing solutions. We understand the demand of the global market and offer trusted web solutions in the world. Our experienced, innovative & dedicated team will create your dream websites. We know that the competitiveness of market. So, our well planned digital marketing strategies and experts team will help your business in standing out from the crowd. Your business will certainly appear on the top of the searches with our effective seo promotions.

Coffee with us
close slider